मंदिर में भगवान तो बाहर क्यों पड़े श्रीराम ??

सावन का महिना है और शिव जी के बोल बम के नारे हर तरफ सुने जा सकते है ऐसे में आस्था का उदाहरण हर तरफ देखा जा सकता है पर नोएडा के सेक-१२ में कुछ ऐसा देखा गया जो सचमुच हैरान कर देने वाला था !!

मंदिर में भगवान तो बाहर क्यों पड़े श्रीराम ??

सरस्वती शिशु मंदिर के रास्ते एक पार्क के दीवार के सामने कूड़े और जानवरों के मल का ढेर लगा हुआ था जो कोई नई बात नही है पर दीवार में हिंदू देवी-देवताओं के टाइल्स अंकित होना ये अपने आप में आश्चर्य कर देने वाला था !  ये तो वही बात हो गयी कि मंदिर में भगवान तो बाहर क्यों पड़े श्रीराम ?? क्योंकि वहां श्री राम ,हनुमान और कई देवी- देवताओं के टाइल्स मौजूद थे तो ऐसे में सवाल ये उठता है कि ईश्वर भक्त और धर्म का हवाला देने वाले तमाम संगठनो ने इस पर आँखे क्यों मूंद रखी है ?? क्या देवी-देवताओं का सम्मान घर और मंदिर तक ही सीमित है ?? ये कोई पहली घटना नही है जब इस तरह देवी देवताओं के टाइल्स का इस्तेमाल कूड़ा न फेंकने व् मल-मूत्र न करने के लिए किया गया हो ! नॉएडा के ही पौष इलाके बोटैनिकल गार्डन बस स्टैंड के दीवार पर भी यही सब देखने को आपको मिल सकता है जहाँ रात को व् अधिकतर सर्दी के समय में देवी-देवताओं के टाइल्स लगे होने के बावजूद वहां लघुशंका करते हुए लोगों को देखा जा सकता है !! क्योंकि ये सब लेखक के प्रत्यक्ष अनुभव पर आधारित है तो ऐसे में वो स्वयं इस घटना को समाज में बताना अपनी जिम्मेदारी समझता है !! धर्म की दुहाई देने वाले,संत,प्रवचनकर्ता,कथावाचक सोशल नेटवर्किंग साईट में जय माता दी , जय श्री राम लिखने वाले य नारे बजी करने वाले लोगो के लिए ये एक शर्मनाक घटना है क्योंकि भारत में ही जहाँ हिंदू धर्म के करोड़ो अनुयायी हो वहां भगवान को कूड़े में विराजना पड़ रहा है !! तमाम संगठन जैसे आरएसएस,विश्व हिंदू परिषद.हिन्दू सेना व् बजरंग दल को ऐसे मामले को गम्भीरता से लेना चाहिए

मंदिर में भगवान तो बाहर क्यों पड़े श्रीराम ??

और सिर्फ कोई दल य संगठन को ही नही अपितु सभी धर्म के पुजारियों व् ईश्वर में आस्था रखने वाले को भी ऐसे अनुचित व् अनैतिक तरीके का जमकर विरोध करना चाहिए !! जनता को चाहिए कि सरकार का इस गम्भीर मामले की तरफ ध्यान आकृष्ट कराया जाये ! शौचालय व् कूड़े की यथा-सम्भव व्यवस्था कराई जाये जिससे कोई भी ऐसे धर्म के नाम पर हिंदू देवी देवताओं की मूर्तियों और सिर्फ हिंदू देवी-देवता ही नही अपितु किसी भी धर्म के आस्था और उसके प्रतीक का इस तरह घिनौना मजाक न बन सके व् इस तरह की घिनौनी हरकत करने वाले नॉएडा अथॉरिटी के अधिकारियों पर ठोस कार्यवाही की जाये !! हम इस तरह भगवान के तस्वीरों को टाइल्स में अंकित कर दीवार में लगाने का कड़ा विरोध करते है व् सभी सामाजिक और जागरूक लोगो से आह्वान करते है कि वे अपने क्षेत्र में भी गंदगी व् शौच आदि को रोकने के लिए सरकार व् अधिकारियों से उचित सुविधा व् व्यवस्था उपलब्ध कराने की मांग करे !!

आभार – चैलेंजर्स ग्रुप ( नॉएडा )